ट्रायल में उम्दा प्रदर्शन कर दिव्या ने भारतीय कुश्ती टीम में जगह बनाई

ट्रायल में उम्दा प्रदर्शन कर दिव्या ने भारतीय कुश्ती टीम में जगह बनाई

Divya made a place in the Indian wrestling team

Reference: http://www.khelratna.org/divya-selected-for-indian-junior-wrestling-team/

दिव्या को भारतीय टीम के ट्रायल के लिए तीन मुकाबले खेले। उन्होंने पहले दो मुकाबले में अंकों के आधार पर जीत दर्ज की। वहीं ट्रायल के फाइनल में दिव्या और हरियाणा की महिला पहलवान के 9-9 अंक थे। दिव्या ने पहले राउंड में प्रतिद्वंदी पहलवान पर 5-0 से बढ़त बना ली थी, लेकिन दूसरे राउंड में वह पिछड़ गईं। तीसरे राउंड में दोनों पहलवान के 9-9 अंक थे। तकनीकी आधार पर उन्हें विजेता घोषित किया गया। दिव्या को सब जूनियर और जूनियर वर्ग में अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का भी अनुभव है। ऐसे में उनसे पदक जीतने की उम्मीद की जा रही है। दिव्या एनसीपीई कॉलेज से बीपीई कोर्स कर रही हैं।

‘ट्रायल में दिव्या ने शानदार प्रदर्शन किया। आखिरी मुकाबला काफी रोमांच भरा रहा। जिसमें इस पहलवान को जीत मिली। वह मेहनती है। ऐसे में उनसे पदक जीतने की पूरी उम्मीद है।’
जबर सिंह सोम, दिव्या के स्थानीय प्रशिक्षक

आखिरी बाउट में अंक बराबर होने पर भी दिव्या को मिली जीत
ट्रायल के फाइनल मुकाबले में दिव्या और हरियाणा की पहलवान के अंक बराबर थे, लेकिन दिव्या ने एक ही बार सबसे अधिक 4 अंक बटोरे थे और कुश्ती के आखिर में भी उन्हें अंक मिले थे। ऐसे में दिव्या को तकनीकी आधार पर विजेता घोषित किया गया। दिव्या का भारतीय टीम में चयन इसलिए भी अहम है कि उन्होंने राष्ट्रीय जूनियर कुश्ती प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता था, लेकिन ट्रायल में शानदार प्रदर्शन करते हुए खुद को साबित किया।

दीक्षा की उपलब्धियां :
-सब जूनियर एशियन कुश्ती चैंपियनशिप में पांचवां स्थान
-जूनियर विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में पांचवां स्थान
-सब जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता में कांस्य पदक
-जूनियर राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिता में कांस्य पदक
-राज्य स्तरीय और अंतर कॉलेज कुश्ती प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

ABOUT AUTHOR

Rohit is an ardent reader and sports enthusiast who loves to write in his style. Along with his passion for writing, he loves travelling new places and cultures.