एनसीपीई के दीपक और शीतल विश्व कुश्ती में दमखम दिखाएंगे

एनसीपीई के दीपक और शीतल विश्व कुश्ती में दमखम दिखाएंगे

NCP's Deepak and Shital World Wrestling Will Show Vigor

Reference: http://www.khelratna.org/ncpe-students-dipak-and-sheetal-select-for-world-wrestling-championship/

नोएडा कॉलेज ऑफ फिजिकल एजुकेशन के नाम एक और उपलब्धि शामिल हो गई है। यहां के दो छात्रों का चयन विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के लिए किया गया है। दीपक कुमार और शीतल तोमर 22 अगस्त से फ्रांस के पेरिस में होने वाली प्रतियोगिता में दमखम दिखाएंगे। प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन के लिए दोनों पहलवान 10-10 घंटे कड़ी मेहनत कर रहे हैं। कॉलेज से दो खिलाड़ियों के चयन से यहां के छात्र और कॉलेज प्रबंधन गदगद है।

शीतल तोमर 53 और दीपक 86 किलोभार वर्ग में दमखम दिखाएंगे। शीतल और दीपक एमपीई दूसरे वर्ष के छात्र हैं। शीतल तोमर जबर सिंह सोम से कुश्ती की बारीकियां सीख रही हैं। मेरठ के पचगांव की शीतल 10 वर्ष से अधिक समय से कुश्ती की विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग ले रही हैं। कॉलेज के चेयरमैन सुशील राजपूत और प्रबंध निदेशक सोनाली राजपूत ने दोनों पहलवानों को सम्मानित करने की बात कही है। दोनों पहलवानों ने इससे पहले भी विभिन्न अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में देश के लिए पदक जीत चुके हैं। ऐसे में विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में भी इनसे पदक जीतने की उम्मीद की जा रही है।
‘शीतल तोमर ने इससे पहले भी कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लिया है और पदक भी जीती है। कुश्ती में उनका लंबा अनुभव है। इसका फायदा उन्हें विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में मिलेगा। लगातार वह अपनी तकनीक को बेहतर कर रही हैं। ‘
जबर सिंह सोम, शीतल के स्थानीय प्रशिक्षक

ऐसे बीतता है शीतल का दिन :
-सुबह पांच बजे अखाड़ा पहुंचना
-4 किलोमीटर की दौड़
-100-100 मीटर स्प्रिंट
-7-10 बजे तक कुश्ती का अभ्यास
-शाम को 3 से 6 बजे तक अभ्यास
खानपान प्रतिदिन :
-100 बादाम
-ग्राम घी
– 2 लीटर दूध
– एक किलो फल
-आधा किलो दही
-डेढ़ लीटर जूस
-अन्य सामान्य खानपान
दीपक कुमार भी कड़ी मेहनत :
-साढ़े पांच बजे अखाड़े में पहुंचना
-दस बजे 5 किलोमीटर से अधिक का दौड़
-अन्य व्यायाम
-करीब 10 बजे तक कुश्ती का अभ्यास
-योग और ध्यान
-शाम को चार से 7 बजे तक कुश्ती का अभ्यास
एक दिन का खानपान
-100-125 बादाम
-125 ग्राम घी
-ढाई लीटर दूध
-डेढ़ किलो फल
-दो लीटर जूस
-अन्य सामान्य खानपान

ABOUT AUTHOR