ऊर्जा टैलेंट हंट क्षेत्रीय फुटबॉल में दिल्ली महिला टीम को तीसरा स्थान

ऊर्जा टैलेंट हंट क्षेत्रीय फुटबॉल में दिल्ली महिला टीम को तीसरा स्थान

Urjaa U19 Football Competition

Reference: http://www.khelratna.org/delhi-womens-team-got-third-possition-in-urja-talent-hunt-football-tournament/

केंद्र सरकार की देखरेख में आयोजित ऊर्जा अंडर 19 फुटबॉल प्रतियोगिता में दिल्ली की टीम को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ. चंडीगढ़ में समाप्त हुई इस जोनल फुटबॉल प्रतियोगिता में दिल्ली ने चंडीगढ़ को टाईब्रेक में 5-3 से हराया. इससे पहले हुई सेमीफइनल में अच्छा खेलने के बाद भी टीम को पंजाब से हार का सामना करना पड़ा. लिहाज़ा दिल्ली को तीसरे स्थान के लिए मैच खेलना पड़ा. 14 जून को प्रतियोगिता समाप्त हुई.

इस टूर्नामेंट के आयोजन की जिम्मेदारी केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल को दी गई है. जबकि दिल्ली की टीम को सँवारने का काम केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल को दिया गया था. तीसरे स्थान के लिए खेले गए मैच में पुरे समय तक ड्रा रहा. इसके बाद टाईब्रेकर में टीम ने 5-3 से जीत दर्ज की. हालांकि सेमीफइनल मुकाबले में दिल्ली की टीम ने शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन टाईब्रेकर में भाग्य का साथ नहीं मिला. इस मैच में पुरे निर्धारित समय तक पंजाब और दिल्ली की टीम 1-1 की बराबरी पर थी. लिहाजा पेनल्टी शूट का सहारा लिया गया. दिल्ली के पहले दो खिलाड़ी गोल नहीं कर पाए. इसका इसका लाभ पंजाब ने उठाते हुए 4-3 से रोमांचक जीत दर्ज कर ली. हालांकि पंजाब को फाइनल में हरियाणा से 9 गोल की करारी हार मिली.

दिल्ली के लड़कों की टीम को चौथा स्थान प्राप्त हुआ. दिल्ली के टीम के प्रशिक्षक और पूर्व अंतरराष्ट्रीय फुटबॉलर ने बताया की हमारी टीम अच्छी थी, लेकिन हम मौके भुनाने में असफल रहे. वहीँ लड़कों की टीम को 12 घंटे के बीच दो मैच खेलना भारी पड़ गया. अगले साल हम और भी मज़बूती से खेलने का प्रयास करेंगे.

प्रत्येक जोन से एक-एक टीम को राष्ट्रीय प्रतियोगिता खेलने का मौक़ा मिलेगा

चंडीगढ़ में खेली गई प्रतियोगिता के लड़कों और लड़कियों की विजेता और उपविजेता टीम को राष्ट्रीय प्रतियोगिता में दमखम दिखने का मौक़ा मिलेगा. प्रतियोगिता जुलाई में होगी. इस प्रतियोगिता के माध्यम से होनहार फुटबॉलरों का चयन किया जाएगा. विश्व कप अंडर 17 फुटबॉल में भी निर्धारित उम्र के तहत आनेवाले खिलाड़िओं को भी मौका मिल सकता है.
पहली बार सैन्य संस्थाओं को मिला प्रतियोगिता आयोजन और चयन की जिम्मेदारी
यह पहला मौका है जब देश की सैन्य संस्थाओं को प्रतियोगिता के आयोजन और चयन की जिम्मेदारी दी गई है. यह भी माना जा रहा है कि सैन्य संस्थाओं को यह जिम्मेदारी देने से आयोजन और चयन में पारदर्शिता बरती जाएगी. फुटबॉल को बढ़ावा देने और सही प्रतिभा को तलाशने के लिए केंद्र सरकार ने यह निर्णय लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रत्यक्ष रूप से इस प्रतियोगिता की समीक्षा भी कर रहे हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के आला अफसर भी इससे सीधा संपर्क में हैं.

ABOUT AUTHOR

Rohit is an ardent reader and sports enthusiast who loves to write in his style. Along with his passion for writing, he loves travelling new places and cultures.